Categories
JHARKHAND LABOUR CARD

{झारखण्ड} मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना 2021 Medhavi Chatra Chatravriti Yojana

मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना पंजीयन प्रक्रिया | medhavi putra/putri chatravriti yojana application online | medhavi putra/putri chatravriti yojana in hindi form | मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना क्या है | medhavi putra/putri chatravriti yojana online apply form | medhavi putra/putri chatravriti yojana jharkhand 2021 | मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना के बारे में जानकारी |

इस आर्टिकल के माध्यम से दोस्तों आज हम आपको जानकारी देंगे की मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना की सुरुआत झारखण्ड सरकार के श्रम समाधान विभाग की और से की गई है इस मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना के तहत श्रमिकों को जो पंजीकृत श्रमिक है उनके बच्चों को शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढने के लिए प्रोत्साहन राशि के रूप में छात्रवृति दी जाती है इस राशि का लाभ तभी लिया जा सकता है जब श्रमिक के बच्चे कक्षा एक से लेकर पांच वीं कक्षा को छोडकर आगे की कक्षा में दूसरा स्थान या फिर कम से कम 45% अंक लाते है और आगी कक्षा में प्रवेश लेते है तो ही उन्हें 5000 रूपये से लेकर 50000 रूपये तक की राशि छात्रवृति के रूप में दी जाती है

इसमें बच्चों को उच्च शिक्षा के लिए भी छात्रवृति राशि दी जाती है जिन बच्चों के परिवार का मुखिया श्रमिक है वही बच्चे इस मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना का लाभ लेने के लिए अपना आवेदन करवा पायेगे मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना के रजिस्ट्रेशन की पूरी विधि आपको हम हमारे द्वारा इस आर्टिकल में निचे बता दी गई है झारखण्ड राज्य में काफी ज्यादा संख्या में ऐसे श्रमिकों के बच्चे है जिन्हें इस मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना के बारे में जानकारी ही नही है जिसकी वजह से वो बच्चे इस योजना का लाभ नही ले पाते है आइये जानते है इस मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना के रजिस्ट्रेशन फॉर्म की प्रक्रिया के बारे में जानकारी

मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना (Medhavi Chatra Chatravriti Yojana):-

झारखण्ड स्टेट के जो पंजीकृत श्रमिक लोग है उनकी आर्थिक स्तिथि इतनी अधिक कमजोर है की वो अपने बच्चों को उच्च शिक्षा नही दिला सकते है ऐसे श्रमिकों के बच्चों को झारखण्ड सरकार की इस मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना के तहत छात्रवृति दी जाती है इस योजना का लाभ लेने के लिए श्रमिक को कम से अकम 45% अक लाने जरूरी है उसके बाद यदि इससे अधिक लाते है तो भी ठीक है सरकार के तय नियमों के अनुसार इस मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना में कक्षा 1 से लेकर 5 वीं तक के बच्चों को छोड़कर ये अंक इससे आगे की कक्षा में आने जरूरी है जब बच्चे 5 वीं कक्षा से आगे की कक्षा में अधिक अंक लाते है

और उससे अगली कक्षा में प्रवेश लेते है तो ही उन्हें आगे की शिक्षा के लिए छात्रवृति राशि दी जायेगी इस मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना का लाभ श्रमिक के दो बच्चों को शिक्षा के लिए दिया जाएगा यदि श्रमिक के बच्चे तीन है तो उनमे से सिर्फ दो बच्चों को इस मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना का लाभ दिया जायेगा तीसरे बच्चे की शिक्षा का खर्चा पूरा श्रमिक को उठाना होगा जह्र्खंड सरकार के श्रम समाधान विभाग की और से इस मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना को संचालित किया गया है

और इस योजना के लाभ हेतु बच्चों को इस विभाग के कार्यालय में जाकर के आवेदन करना होगा यदि पहले से ही बच्चे किसी योजना का लाभ ले रहे है जो छात्रवृति से जुड़े हुए है तो उन बच्चों को इस योजना में शामिल नही किया जाएगा श्रमिक परिवार के बच्चे ही लाभ लेने के अधिकारी माने गये है जो गरीबी रेखा से निचे अपना जीवन यापन करते है उन बच्चों को उच्च शिक्षा की और अग्रसर होने के लिए आर्थिक धनराशी दी जाती है

मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना का उदेश्य क्या है इसके बारे में?

झारखण्ड राज्य में बहुत से ऐसे श्रमिक परिवार है जो एक परिवार में एक ही व्यक्ति घर का सारा खर्चा चलाता है परिवार को आर्थिक समस्या का सामना करना होता है जो श्रमिक परिवार गरीबी रेखा से बहुत निचे अपना जीवन यापन करते है अपने बच्चों को उच्च शिक्षण संस्थानों में पढाई नही करवा पाते है क्योंकि श्रमिक की आयु इतनी अधिक नही होती है की वह अपने बच्चों को उच्च शिक्षा ग्रहण करवा सके ऐसे गरीब परिवार के बच्चों को झारखण्ड सरकार की और से 5 हजार रूपये से लेकर 50 हजार रूपये तक की राशि दी जाती है इससे बच्चे इंजीनियरिंग तक की शिक्षा के लिए छात्रवृति राशि प्राप्त कर सकते है

कमजोर पंजीकृत श्रमिक परिवार के बच्चों को शिक्षा के लिए वित्तीय सहायता राशि प्रदान करना ही इस मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना का मुख्य उदेश्य है ताकि किसी भी श्रमिक परिवार में आर्थिक स्तिथि कमजोर होने के कारण अपनी पढाई को अधूरा न छोड़े लाभ इस मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना का वही बच्चे ले सकते है जो कक्षा एक से लेकर पांच तक की कक्षा को छोडकर इसके आगि की कक्षा में दूसरा स्थान प्राप्त करते है या फिर कम से कम 45% अंक लेकर आगे की कक्षा में प्रवेश लेते है तो ही छात्रवृति राशि प्राप्त कर सकते है

दी जाने वाली छात्रवृति राशि कितनी है?

इस मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना के तहत श्रमिक के बच्चों को जो छात्रवृति राशि दी जाती है वो उनकी कक्षा के अनुसार दी जाती है आइये जाने कोनी कक्षा के लिएकितनी छात्रवृति राशि दी जाती है

  • कक्षा 1 से लेकर 8 वीं तक के बच्चों को 5000 रूपये की छात्रवृति दी जाती है
  • 9 से 12 तक के बच्चों को 10000 रूपये तक की राशि छात्रवृति के रूप में दी जाती है
  • 12 के बाद स्नातक या फिर स्नातकोतर की शिक्षा प्राप्त करने वाले छात्र/छात्राओं को 20000 रूपये छात्रवृति के रूप में दिए जाते है
  • मेडिकल और इंजीनियरिंग जैसी उच्च शिक्षा के लिए कक्षा में प्रवेश लेने पर बच्चों को 50 हजार रूपये की राशि तक छात्रवृति दी जाती है

श्रमिक की आय क्या होनी जरूरी है?

झारखण्ड राज्य में जो श्रमिक पंजीक्रत है जो गरीबी रेखा से निचे अपना जीवन यापन करते है ऐसे ब्श्र्मिकों के बच्चों को शिक्षा के लिए जो छात्रवृति राशि दी जाती है वो एक ही शर्त पर दी जाती है की यदि श्रमिक की वार्षिक आय 1 से लेकर 1.50 हजार रूपये से अधिक नही है तो ही उसके बच्चों को छात्रवृति दी जायेगी जो पंजीकृत श्रमिक झारखण्ड सरकार के तय नियमों से ज्यादा धनराशी कमाते है उनके बच्चों को छात्रवृति नही दी जायेगी

मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना के लिए मुख्य मुख्य पात्रता क्या होनी चाहिए?

झारखण्ड श्रम समाधान विभाग की इस योजना का यदि आप लाभ लेने के इन्छुक है तो आपको इसके लाभ के लिए तय की गई पात्रताओं का ध्यान रखना होगा

  • श्रमिक पंजीकृत होना जरूरी है
  • जो शर्मिक झारखण्ड राज्य के स्थाई निवासी है उनके बच्चों को ही छात्रवृति राशि दी जायेगी
  • अगर श्रमिक के बच्चे किसी और योजना के तहत छात्रवृति राशि का लाभ ले चुके है तो उन्हें इस मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना का लाभ नही दिया जाएगा
  • कक्षा एक से लेकर 5 वीं तक के बच्चों को छोड़कर उसके आगे की कक्षा में बच्चों का दूसरा स्थान या फिर कम से कम 45% अंक आने जरूरी है
  • यदि श्रमिक के बच्चे आगे की कक्षा में प्रवेश लेते है तो ही उन्हें इस मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना का लाभ दिया जाएगा
  • इस योजना का लाभ श्रमिक के दो बच्चों तक ही दिया जाएगा

इस योजना के जरिये लाभ क्या क्या होने वाले है?

  • मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना के तहत कक्षा 1 से लेकर इंजीनियरिंग तता मेडिकल जैसी उच्च शिक्षा के लिए 5000 रूपये से लेकर 50000 रूपये तक की राशि दी जाती है
  • बच्चों को शिक्षा में आगे बढने हेतु इस योजना के तहत छात्रवृति दी जा रही है
  • श्रमिक परिवार के बच्चों को अपनी शिक्षा को अधुरा नही छोड़ना पड़ेगा

मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना के काम आने वाले महत्वपूर्ण दस्तावेज कोन कोनसे है?

  • श्रमिक बच्चे का आधार कार्ड
  • पंजीकृत श्रमिक का आधार कार्ड
  • बच्चे का बैंक खाता संख्या (आधार कार्ड और मोबाइल नंबर से लिंक)
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर
  • कोनसी कक्षा में कितने अंक प्राप्त किये है इसके लिए अंकतालिका

मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना के लिए पंजीयन प्रक्रिया:-

इस स्कीम में श्रमिक के बच्चे ऑनलाइन आवेदन नही कर पायेगे उन्हें श्रम समाधान विभाग के कार्यालय में जाना होगा और दस्तावेजों की फोटो कोपी पंजीयन फॉर्म के साथ लगाकर वही पर फॉर्म को जमा करवा देना है जिसके बाद इस मेधावी पुत्र/पुत्री छात्रवृति योजना में रजिस्ट्रेशन हो जाएगा