शिक्षा के लिए सहायता योजना 2021 Shiksha Vittiya Sahayata Yojana Online Form

शिक्षा के लिए सहायता योजना क्या है | shiksha vittiya sahayata yojana application form | शिक्षा के लिए सहायता योजना के बारे में जानकारी | shiksha vittiya sahayata yojana in hindi | shiksha vittiya sahayata yojana online registration | शिक्षा के लिए सहायता योजना ऑनलाइन पंजीयन फॉर्म | शिक्षा के लिए सहायता योजना के लाभ क्या क्या है |

Shiksha Vittiya Sahayata Yojana-शिक्षा के लिए सहायता योजना के तहत दिल्ली सरकार की और से राज्य के श्रमिकों के बच्चों को पढाई के लिए 500 रूपये से लेकर 10000 रूपये तक की आर्थिक सहायता राशि दी जाती है ये राशि उन्ही बच्चों को दी जाती है जिनके पिता या फिर माता श्रमिक है और दिल्ली लेबर कार्ड विभाग में पंजीकृत है क्योंकि बहुत से मजदूर पंजीकृत नही है उनके बच्चों को शिक्षा के लिए जो सहायता राशि सरकार की और से दी जाती है

वो नही दी जायेगी इसके अलावा बच्चों को केंद्र सरकार की और से भी आर्थिक सहायता राशि पढाई के लिए मुहहिया करवाई जाती है ताकि बच्चे शिक्षा की और अग्रसर हो सके बहुत से बच्चों की पढाई परिवार की आर्थिक स्तिथि कमजोर होने की वजह से छूट जाती है ऐसे गरीब और कमजोर आर्थिक परिवार के श्रमिकों के बच्चों को इस शिक्षा के लिए सहायता योजना में शामिल किया जाएगा ताकि परिवार पर भी उनकी पढाई का बोझ कम किया जा सके इस आर्थिक के तहत आपको ये जानकारी दी जायेगी

शिक्षा के लिए सहायता योजना क्या है | shiksha vittiya sahayata yojana application form | शिक्षा के लिए सहायता योजना के बारे में जानकारी | shiksha vittiya sahayata yojana in hindi | shiksha vittiya sahayata yojana online registration | शिक्षा के लिए सहायता योजना ऑनलाइन पंजीयन फॉर्म | शिक्षा के लिए सहायता योजना के लाभ क्या क्या है |

की कितनी कितनी राशि बच्चों को कोनसी कक्षा के लिए दी जाती है दिल्ली सरकार की और से और कितनी राशि केंद्र सरकार की और से दी जाती है शिक्षा के लिए तथा ये भी जानेगे की किस प्रकार से इस शिक्षा के लिए सहायता योजना के लाभ हेतु आवेदन किया जा सकता है

शिक्षा के लिए सहायता योजना 2021 (Shiksha Vittiya Sahayata Yojana) के बारे में जानकारी:-

जो श्रमिक परिवार दिल्ली भवन एवं अन्य निर्माण श्रमिक कल्याण बोर्ड के कार्यालय में पंजीकृत है जिनकी वार्षिक आय बहुत कम है और अपने बच्चों को शिक्षा नही दिला पाते है ऐसे श्रमिकों के बच्चों को दिल्ली सरकार की और से अब उनकी कक्षा के अनुसार आर्थिक सहायता राशि दी जाती है इसमें बच्चों को कक्षा 1 से लेकर उच्चा शिक्षा जैसे पोलोटेकनिकल,इंजीनियरिंग,मेडिकल तथा अन्य प्रकार की उच्च शिक्षा के लिए 10000 रूपये तक की सहायता राशि दी जाती है

ताकि बच्चे पढ़ लिख सके इसके अलावा केंद्र सरकार की और से भी बहुत से लाभ श्रमिकों के बच्चों को दिए जाते है केंद्र सरकार की और से 6000 रूपये से लेकर 1 लाख 20 हजार रूपये तक की सहायता राशि शिक्षा के लिए दी जाती है मगर इस योजना का लाभ सिर्फ पंजीकृत श्रमिकों के बच्चों को ही दिया जाएगा श्रमिक चाहे महिला ह या फिर पुरुष श्रमिक हो पंजीकृत होने जरूरी है कुछ श्रमिक महिलाओं के पति की मृत्यु हो जाने के बाद उन्हें ही अपने बच्चों को शिक्षा दिलानी होती है ऐसे में ये योजना उनके लिए बहुत लाभकारी है

शिक्षा के लिए सहायता योजना के लाभ के लिए आपको आवेदन करना होगा लेकिन इस योजना के लाभ के लिए ऑनलाइन पंजीयन फॉर्म नही भरा जाएगा आप सिर्फ इस आर्टिकल के माध्यम से घर बैठे ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन फॉर्म डाउनलोड करके विभाग के कार्यालय में जाकर के फॉर्म को जमा करवा दे जिसके बाद बच्चों को शिक्षा के लिए सहायता राशि दी जायेगी

दिल्ली सरकार की और से दी जाने वाली राशि:-

पंजीकृत मजदूरों के बच्चों को शिक्षा के लिए दिल्ली सरकार की और से जो राशि मुहहिया करवाई जाती है उनके बारे में जानकारी निम्न प्रकार से है

  • कक्षा 1 से 8 तक के बच्चों को 500 रूपये की राशि दिल्ली सरकार की तरफ से दी जाती है
  • 9 से 10 तक के बच्चों को 700 रूपये दिए जाते है
  • 11 से 12 वीं तक के बच्चों को 1000 रुप्युए की सहायता राशि दी जाती है
  • स्नातक की शिक्षा ग्रहण करने वाले बच्चों को 3000 रूपये की राशि दी जाती है
  • ITI की तैयारी करने वाले श्रमिक के बच्चों को 4000 रूपये दिए जाते है
  • पोलोटेकनिकल के बच्चों को 5000 रूपये की राशि तीन साल तक लगातार अध्यन करने पर दी जाती है
  • इंजीनियरिंग,मेडिकल,MBA की तैयारी करने वाले श्रमिक के बच्चों को सरकार की और से 10000 रूपये की राशि दी जाती है

केंद्र सरकार की और से बच्चों को शिक्षा के लिए दी जाने वाली सहायता राशि:-

  • कक्षा एक से लेकर 8 वि तक के बच्चों को सरकार की और से 6000 रूपये तक की सहायता राशि दी जाती है
  • 9 से 10 वीं की पढाई करने वालों को 8400 रूपये केंद्र सरकार की और से दिए जाते है
  • 11 और 12 कक्षा में पढने वाले बच्चों को 12000 रूपये दिए जाते है
  • स्नातक की पढाई कर रहे बच्चों को 36000 रूपये दिए जाते है
  • आईटीआई करने वालों को 48000 रूपये की सहायता राशि प्रदान की जाती है
  • पोलोटेकनिकल के बच्चों को 60000 रूपये दिए जाते है
  • मेडिकल,इंजीनियरिंग,एमबीए के बच्चों को एक लाख बीस हजार रूपये की सहायता राशि प्रधान मंत्री कोष से दी जाती है

शिक्षा के लिए सहायता योजना का मुख्य उदेश्य:-

जिन श्रमिकों की वार्षिक आय बहुत कम है जो गरीबी रेखा से निचे रहकर अपना जीवन यापन करते है ऐसे श्रमिकों के बच्चों को दिल्ली सरकार की और से शिक्षा प्राप्त करने के लिए आर्थिक सहायता राशि प्रदान की जाती है क्योंकि गरीबी के कारण श्रमिक अपने बच्चों को शिक्षा प्राप्त नही करवा पाता है और बहुत से श्रमिक तो अपने बच्चों को अपने साथ काम पर ले जाते है कुछ रिवार ऐसे भी है जिसमे श्रमिक की मृत्यु हो जाने पर महिला को घर की सारी जिमेदारी सम्भालनी पडती है ऐसे में महिला श्रमिक का बच्चों की शिक्षा के लिए खर्चा उठा पाना काफी मुस्किल हो जाता है

एसी महिला श्रमिक और पुरुष श्रमिकों को अब अपने बच्चों की पढाई के लिए लगने वाली राशि की चिंता करने की जरूरत नही है क्योंकि दिल्ली सरकार की इस शिक्षा के लिए सहायता योजना के जरिये बहुत से श्रमिक परिवारों को हर साल लाभ पहुचाया जाता अहि मगर लाभ उन्ही श्रमिकों के बच्चों को दिया जाएगा जो श्रमिक पंजीकृत है शिक्षा के लिए सहायता योजना के लाभ से बच्चे शिक्षा प्राप्त कर सकेगे और राज्य में शिक्षा के स्तर में बढ़ोतरी आएगी जिससे बेरोजगारी को कम किया जा सकेगा

शिक्षा के लिए सहायता योजना का लाभ लेने के लिए क्या क्या पात्रता जरूरी है?

  • जो श्रमिक पंजीकृत है उन्ही के बच्चों को शिक्षा के लिए आर्थिक सहायता राशि दी जायेगी
  • दिल्ली के स्थाई निवासी जो मजदूर है उनके बच्चे इस शिक्षा के लिए सहायता योजना के लाभ के लिए आवेदन कर सकते है
  • यदि बच्चे एक ही कक्षा में में बार बार फ़ैल हो जाते है उन्हें सिर्फ एक बार ही योजना के जरिये दी जाने वाली राशि दी जायेगी
  • पंजीकृत श्रमिक के सिर्फ दो बच्चों को इस शिक्षा के लिए सहायता योजना में शामिल किया जाएगा

लाभ के बारे मे जानकारी:-

  • श्रमिकों के बच्चों को 500 रूपये से लेकर 10000 रूपये की सहायता राशि दिल्ली सरकार की और से शिक्षा के लिए दी जाती है
  • केंद्र सरकार की और से 6000 रूपये से लेकर एक लाख बीस हजार रूपये की राशि दी जाती है
  • इस राशि के सहयोग से राज्य में शिक्षा के स्तर में इजाफा होगा
  • बेरोजगारी जैसी समस्या को जड़ से खत्म करने में आसानी हो जायेगी
  • श्रमिकों को अपने बच्चों को पढाने के लिए आर्थिक तंगी से नही झुझना पड़ेगा
  • इसका लाभ श्रमिक महिला या पुरुष के बच्चों को दिया जाएगा

शिक्षा के लिए सहायता योजना के लाभ के लिए आवेदन प्रक्रिया:-

  • आधार कार्ड
  • बैंक खाता संख्या बच्चे का या फिर पिता
  • बच्चे का आधार कार्ड
  • श्रमिक पिता या फिर माता कके मोबाइल नंबर
  • राशन कार्ड श्रमिक का पंजीकृत लेबर कार्ड
  • जिस कक्षा में कढाई की जा रही है उसका प्रमाण पत्र

आवास खरीद या निर्माण सहायता योजना 2021 Awas kharid Ya Nirman Sahayata Yojana

शिक्षा के लिए सहायता योजना में रजिस्ट्रेशन कैसे करे?

  • अगर आप भी अपने बच्चों की शिक्षा के लिए मिलने वाली आर्थिक सहायता राशि को प्राप्त करना चाहते अहि तो आप सबसे पहले इस शिक्षा के लिए सहायता योजना के लाभ हेतु इसकी आधिकारिक वेबसाइट को खोले
  • अब आपके सामने आपके मोबाइल फ़ोन या फिर कंप्यूटर स्क्रीन पर इसका मुख्य पेज शो हो जाएगा जिसमे आपको फॉर्म का ऑप्शन दिखाई देगा जिस पर क्लिक करना है
  • अब आपके सामने एक पेज दूसरा खुल जाएगा जिसमे आपको इस शिक्षा के लिए सहायता योजना का आवेदन फॉर्म दिखाई देगा जिस पर आपको क्लिक करना है
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने इसका पंजीयन फॉर्म ओपन होगा जिसे सही सही भरे और श्रम विभाग दिल्ली के मुख्य कार्यालय में जाए और जमा करवा दे

Q. शिक्षा के लिए सहायता योजना क्या है

Ans. इसमें श्रमिकों के बच्चों को शिक्षा के लिए आर्थिक सहायता राशि दी जाती है

Q. श्रमिकों की आयु कितनी होनी जरूरी है

Ans. जिन श्रमिकों की आयु सीमा 60 साल से अधिक नही है वो श्रमिक अपने बच्चों के लिए इस सहायता राशि के लिए आवेदन कर सकते है

Q. किस किस कक्षा के लिए राशि दी जाती है

Ans.जो कक्षा एक से लेकर उच्चा शिक्षा के लिए इन्छुक है उन्हें आर्थिक सहायता राशि दी जाती है

Q. कितनी सहायता राशि बच्चों को दी जाती है

Ans.इसमें 500 रूपये से लेकर 10000 रूपये तक की आर्थिक सहायता राशि सरकार की और से दी जाती है

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *